भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद
केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान
  • न रा का स पुरस्कार 
  • राजर्षि टंडन राजभाषा पुरस्‍कार 
  • हिन्‍दी कार्यशाला 2018
  • न रा का स पुरस्कार 

Home Official Language

सी एम एफ आर आइ में राजभाषा कार्यान्‍वयन

केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान प्रख्‍यात अनुसंधान संगठन होने के नाते सरकार की राजभाषा नीति के कार्यान्‍वयन के लिए प्रमुखता देता रहता है. वर्ष 1988 में हिन्‍दी अनुभाग की स्‍थापना से लेकर राजभाषा हिन्‍दी संस्‍थान का एक अभिन्‍न अंग है. संस्‍थान में की जाने वाली राजभाषा गतिविधियों में नाम पट्टों, रबड़ की मोहरों, कर्मचारी सदस्‍यों के पहचान पत्र, चार्ट, मुख्‍यालय एवं कृषि विज्ञान केन्‍द्र के प्रशिक्षण कार्यक्रमों के प्रमाण पत्र, विभिन्‍न कार्यक्रमों के बैनरों का द्विाभाषीकरण; कर्मचारियों का हिन्‍दी प्रशिक्षण; हिन्‍दी कार्यशालाओं का नियमित आयोजन; हिन्‍दी चेतना मास का आयोजन; सी एम एफ आर आइ के 10 क्षेत्रीय एवं अनुसंधान केन्‍द्रों की राजभाषा गतिविधियों का अनुवीक्षण आदि प्रमुख हैं.

सी एम एफ आर आइ में राजभाषा हिन्‍दी वैज्ञानिक अनुसंधान कार्यों से जुडी हुई है. संस्‍थान के अनुसंधान कार्यों का विकीर्णन वैज्ञानिक संगोष्ठियों और अनुसंधान पत्रिकाओं द्वारा देश के सभी भागों में विकीर्णन किया जाता है.

राजभाषा नीति के उत्‍कृष्‍ट निष्‍पादन के लिए संस्‍थान को गृह मंत्रालय, भारत सरकार का इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्‍कार, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का राजर्षि टंडन पुरस्‍कार और नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समितियों के राजभाषा शील्‍ड प्राप्‍त हुए हैं.


केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान को राजभाषा गौरव पुरस्कार 

संस्थान के डॉ. गोपालकृष्णन, निदेशक और डॉ. इमेल्डा जोसफ, प्रधान वैज्ञानिक को संस्थान की अर्धवार्षिेक हिन्दी गृह पत्रिका मत्स्यगंधा’ में प्रकाशित मछुआरों की आय बढ़ायी जानने के लिए समुद्री संवर्धन प्रौद्योगिकियॉं’ विषयक लेख के लिए राजभाषा विभाग, गृहमंत्रालय, भारत सरकार द्वारा हिंदीतर भाषी क्षेत्र की श्रेणी में राजभाषा गौरव पुरस्कार वर्ष 2017-18’ प्राप्त हुआ. विज्ञान भवननई दिल्‍ली में हिन्‍दी दिवस दिनांक 14 सितंबर, 201को आयोजित गरिमामय हिन्‍दी दिवस समारोह में भारत के माननीय उप राष्‍ट्रपति श्री वेंकय्या नायडु ने पुरस्‍कार प्रदान किया. श्री राजनाथ सिंहगृह मंत्रीश्री हंसराज गंगाराम अहीरगृह राज्य मंत्री और श्री किरण रिजीजूगृह राज्य मंत्री भी इस मौके पर उपस्थित थे। 


                                                                              

भाकृ अनु प – केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान को राजर्षी टंडनपुरस्कार

 भा कृ अनु प - केन्द्रीयसमुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान को वर्ष 2017-18केदौरान क्षेत्र में स्थितसंस्‍थानों में राजभाषा नीति के उत्‍कृष्‍ट निष्पादन के लिए भारतीय कृषि अनुसंधानपरिषद का राजर्षि टंडन राजभाषा पुरस्‍कार प्राप्‍त हुआ. संसथान को यह पुरस्कार 10 वीं बार प्राप्तहो रहा है. भा कृ अनु प के स्थापना दिवस समारोह के दौरान दिनांक 16 जुलाई, 2019 को एन ए एस सीसमुच्चय,नईदिल्ली में आयोजित समारोह में डॉ. ए. गोपालकृष्णन, निदेशक, सी एम एफ आर आइ औरश्रीमती ई. के. उमा, मुख्य तकनीकी अधिकारी (हिन्दी) ने डॉ. त्रिलोचन महापात्र, महानिदेशक, भा कृ अनु प सेपुरस्कार प्राप्त किया। 



नीलीअर्थव्यवस्था के लिए समुद्री शैवाल का महत्व राष्ट्रीय वैज्ञानिक हिन्दी वेबिनार

 

भा कृ अनु प-केन्द्रीयसमुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान, कोच्ची की अनुसंधान गतिविधियों का राष्‍ट्रीय स्‍तरपर प्रसार करने और वैज्ञानिक क्षेत्र में हिन्‍दी का प्रयोग बढ़ाने के उद्देश्‍यसे दिनांक 09.03.2021 को नीली अर्थव्यवस्था के लिए समुद्री शैवाल का महत्व पर राष्ट्रीय वैज्ञानिकहिन्दी वेबिनार आयोजित की गयी। वेबिनार की उद्घाटन सभा में डॉ. बी. मीनाकुमारी,भूतपूर्व उप महानिदेशक (मा. वि.), भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली मुख्यअतिथि रही। डॉ. पी. कलाधरन, प्रभारी अध्यक्ष, एफ ई एम प्रभाग एवं वेबिनार के मुख्यआयोजक ने सभा का स्वागत किया। डॉ. ए. गोपालकृष्णन, निदेशक, भा कृ अनु प-सी एम एफआर आइ ने अध्यक्ष के रूप में सभा का संबोधन किया। डॉ. पी. पॉल पांडियन, मात्स्यिकी,पशु पालन एवं डेयरी मंत्रालय, मात्स्यिकी विभाग, कृषि भवन, नई दिल्ली और डॉ.प्रवीण पी., सहायक महानिदेशक (मा. वि.), भा कृ अनु प, नई दिल्ली वेबिनार में सम्मानीय अतिथि थे और उन्‍होंने सभा का संबोधन किया। श्रीमती सीमा चोपड़ा,निदेशक (राजभाषा), भा कृ अनु प, नई दिल्ली ने आशीर्वचन दिया। श्रीमती ई. के. उमा, मुख्य तकनीकी अधिकारी(हिन्दी अनुवादक) ने कृतज्ञता अदा किया। बेबिनार में सी एम एफ आर आइ मुख्यालय एवंक्षेत्रीय केन्द्रों व स्टेशनों तथा अन्य मात्स्यिकी संगठनों के वैज्ञानिकों ने अपनेलेख प्रस्तुत किए। वेबिनार में डॉ. पी. के. अशोकन, प्रधान वैज्ञानिक एवं प्रभारीवैज्ञानिक, कालिकट क्षेत्रीय स्टेशन, डॉ. वेंकटेशन वी., वरिष्ठ वैज्ञानिक, भा कृ अनुप-सी एम एफ आर आइ, कोच्ची और डॉ. रतीशकुमार आर., वैज्ञानिक, भा कृ अनु प-सी एम एफआर आइ, कोच्ची ने लेखों के प्रस्‍तुतीकरण का मूल्‍यांकन किया। डॉ. काजल चक्रवर्ती, प्रधानवैज्ञानिक, भा कृ अनु प-–सी एम एफ आर आइ, कोच्ची और डॉ. अनुज कुमार, वैज्ञानिक, सीआइ एफ टी, कोच्ची को उत्कृष्ट प्रस्तुतीकरण का पुरस्कार प्राप्त हुए । वेबिनर में भाग लिएवैज्ञानिकों को ई- प्रमाण पत्र प्रदान किए गए ।





राष्ट्रीय वैज्ञानिक हिन्दी संगोष्ठी मेंपुरस्कार

  डॉ. षिनोज पी., वरिष्ठ वैज्ञानिक और डॉ.मिरियम पॉल श्रीराम, वरिष्ठ वैज्ञानिक, सी एम एफ आर आइ ने केन्द्रीय मात्स्यिकी प्रौद्योगिकीसंस्थान, कोचीन में दिनांक 11जुलाई, 2019 को भारतीय अर्थव्यवस्था में मात्स्यिकी का योगदानविषय पर आयोजित राष्ट्रीय वैज्ञानिक हिन्दी संगोष्ठीमें अपने लेख प्रस्तुत किए। डॉ. षिनोज को उत्कृष्ट लेख प्रस्तुतीकरण का प्रथमपुरस्कार प्राप्‍त हुआ।



हिन्दी पखवाड़ा समारोह 2023

      भा कृ अनु प – केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकीअनुसंधान संस्थान में सभी अधिकारियों और कर्मचारियों के बीच सरकारी कामकाज मेंराजभाषा हिन्दी के प्रति जागरूकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से दिनांक 14 से 28 सितंबर 2023 तक विविध कार्यक्रमों के साथहिन्दी पखवाड़ा मनाया गया।

     राजभाषा हिन्दीके प्रयोग को बढाने के लिए एक उत्साहवर्धक वातावरण सृजित करने का आह्वान देते हुएघोषणा के द्वारा दिनांक सितंबर 14, 2023 को हिन्दी दिवस के दिन हिन्दी पखवाड़ा की शुरुआत हुई। इसअवसर पर माननीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर के प्रेरणाप्रद सन्देश पोस्टरके रूप में नोटीस बोर्ड पर प्रदर्शित किया। हिन्दी भाषा के कुछ प्रमुखसूक्तियों के स्टैंडी और डिजिटल डिस्प्ले बनाए और प्रदर्शित किए गए। हिन्दी पखवाड़ा समारोह के अंतर्गत विविध कार्यक्रम, जो किहिन्दी स्मृति परीक्षा, हिन्दी टिप्पण एवं आलेखन, हिन्दी अंताक्षरी, हिन्दी सुलेख एवंहिन्दी टंकण प्रतियोगिताएं आयोजित की गयीं।बोलचाल की हिन्दी विषय पर हिन्दी कार्याशालादिनांक 27 सितंबर 2023 को आयोजित की गयी। संस्थान के अधिकारियों एवं कर्मचारियोंने बड़ी रूचि से प्रतियोगिताओं में भाग लिया। हिन्दी पखवाड़ा के समापन समारोह में डॉ.ए.गोपालकृष्णन,निदेशक ने विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए। प्रतियोगिताओं में अधिक अंक प्राप्तएम बी ई प्रभाग को राजभाषा रॉलिंग ट्रॉफी प्राप्त हई। डॉ.ग्रिन्सन जोर्ज, अध्यक्ष,एम बी ई एम डी और प्रभाग के कार्मिकों ने राजभाषा रॉलिंग ट्रॉफी निदेशक महोदय सेस्वीकार की।


डॉ.ए.गोपालकृष्णन,निदेशकराजभाषा रॉलिंग ट्रॉफी प्रदान करते हुए


पुरस्कार वितरण


प्रतियोगिताओं की झलक


हिन्दी कार्यशाला


संस्थान के राजभाषाकार्यान्वयन कार्यक्रमों में प्रमुख है हिन्दी कार्यशाला का आयोजन।  हर तिमाही में एक हिन्दीकार्यशाला का आयोजन किया जाता है। इस अवधि के दौरान कर्मचारियों को हिन्दी में कामकरने का प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से दिनांक 27 सितंबर, 2023 को बोलचालकी हिन्दी विषय पर हिन्दी कार्यशाला आयोजित की गयी।श्रीमती प्रिया के.एम., वरिष्ठ तकनीकी सहायक(हिन्दीअनुवादक), सी एम एफ आर आइ ने कक्षा का संचालन किया। संस्थान मुख्यालय केकर्मचारियों ने बड़ी उत्सुकता से कार्यशाला में भाग लिया।


 





EVENT CALENDAR

March 2024
26
27
28
29
1
2
3
4
5
6
7
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
29
30
31
Back to Top